सैकड़ो ग्रामीणों को खाद्यान न मिलने से कोटेदार के विरुद्ध किया नारेबाजी,

*दो महीने में करीब 69 कुंतल गल्ला घोटाले का आरोप

दुद्धी-बभनी ब्लाक क्षेत्र के गोहड़ा ग्राम में सोमवार को सैकड़ो ग्रामीण कोटेदार के विरुद्ध लामबन्द हो कर नारेबाजी करने लगे।ग्राम प्रधान प्रतिनिधि चिंतामणि यादव व ग्रामीण महादेव, बोधन, सोनिया देवी, राजवती, कमला देवी , सविता,शिवलोचन देवराज सिंह ,देवीदयाल यादव ,श्याम बहादुर यादव आदि ने बताया कि कोटेदार द्वारा खाद्यान वितरण में हर महीने अनियमितता व घोटाला किया जा रहा है जनवरी महीने में करीब 100 से अधिक लोगो को गल्ला नही मिला है जिसमे करीब 20 कुंतल गल्ले का घोटाला हुआ है वही फरवरी महीने करीब 49 कुंतल गल्ला घोटाला हुआ।आदिवासी बाहुल्य गोहड़ा ग्राम में कुल 585 कार्डधारक है जिसमे करीब 275 कार्ड धारकों अभी तक फरवरी महीने का गल्ला नही मिला और कोटेदार द्वारा गल्ला वितरण किये जाने की पर्ची व पैसा भी ले किया गया।

ग्राम प्रधान प्रतिनिधि चिंतामणि यादव के साथ कुछ ग्रामीणों ने राशन का स्टॉक देखा तो पाया कि वर्तमान में 9 कट्टी चावल व 4 कुंतल गेहू ही शेष बचा है जबकि सैकड़ो की संख्या में उपभोक्ताओं को राशन नही मिला है ।
कोटेदार परमेश्वर प्रसाद ने बताया कि गल्ला उठान में ही कम मिलता है।राशन वितरित न होने से ग्रामीणों ने कोटेदार की दुकान पर जम कर नारेबाजी किया।और खाद्यान लेने की जिद पर अड़े रहे।उपजिलाधिकारी सुशील यादव ने उक्त मामले में कहा कि यदि सत्यता पायी गयी तो कार्यवाही की जायेगी। वही
जिला खाद्य आपूर्ति निरीक्षक राकेश तिवारी ने उक्त सम्बन्ध में कहा कि देखवा रहा हु।

इनसेट-सिंडिकेट सक्रिय

कोटेदार ने दबी आवाज में कहा कि गल्ला उठान करते समय से ही एक सिंडिकेट सक्रिय हो जाता है और मन मुताबिक गल्ला का बंदरबाट यही हो जाता है जिससे हर महीने 3 से 4 कुंतल गल्ला कम यहाँ आता है ।
इनसेट- नही जल रहे चूल्हे

गांव के दर्जनों परिवार गरीबी व बेबसी की जिंदगी जी रहे है ,जिनका पेट सिर्फ और सिर्फ सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान से मिलने वाली राशन से ही चलता है लेकिन उनका निवाला भी छीन लिया जा रहा है और आज करीब दर्जन भर ग्रामीण राशन न मिलने से आँखे नम कर लिए।

आपको यह लेख/समाचार कैसा लगा ?

Click on a star to rate it!

Average rating / 5. Vote count:

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *